पटना में 23 जून को विपक्षी एकता का प्रदर्शन

3966
पटना: लोकसभा चुनाव -2024 से लगभग 9-10 महीने पहले पीएम मोदी और भाजपा के विरोधी विपक्षी दलों का कल यानी 23 जून को पटना में पहला जमावड़ा लगने जा रहा है. बिहार सीएम नीतीश कुमार इस विपक्षी एकता के सूत्रधार हैं.विपक्षी एकता की बैठक में शामिल होने के लिए अरविंद केजरीवाल, भगवंत मान, फारूख अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती आज ही पटना पहुंच जाएंगे.
विपक्षी एकता की पहली बैठक की मेजबानी बिहार के मुख्यमंत्री और जेडीयू नेता नीतीश कुमार कर रहे हैं. जो कई महीनों से अलग-अलग दलों के नेताओं से मिल रहे हैं और सबसे BJP के खिलाफ एकजुटता कायम करने की अपील कर रहे हैं. 2024 के चुनाव से पहले इस विपक्षी एकजुटता का राजनीतिक मकसद भाजपा के खिलाफ पूरे देश में एक माहौल तैयार करने और एक अलग विकल्प तैयार करने की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है.
कौन-कौन नेता होंगे बैठक में शामिल
23 जून की विपक्षी एकता मीटिंग में जुट रहे बड़े नेताओं में नीतीश कुमार और आरजेडी के लालू यादव या तेजस्वी यादव के अलावा कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे, राहुल गांधी, सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव, टीएमसी अध्यक्ष ममता बनर्जी, एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार, शिवसेना उद्धव गुट के अध्यक्ष उद्धव ठाकरे, आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल, सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी, सीपीआई महासचिव डी राजा, सीपीआई-माले महासचिव दीपांकर भट्टाचार्य, डीएमके अध्यक्ष स्टालिन, पीडीपी की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती, नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूख अब्दुल्ला, आरएलडी के अध्यक्ष जयंत चौधरी समेत अन्य नेता शामिल हैं. नेताओं का पटना पहुंचना शुरू हो गया है.
सुशील मोदी का तंज- देश की जनता दूल्हे का नाम जानना चाहती है.
कल होनेवाली बैठक पर बीजेपी का नीतीश और बैठक में शामिल होने आ रहे नेताओं पर हमला तेज होता जा रहा है. हर रोज दिल्ली से पटना तक बिहार बीजेपी के नेता इस बैठक को लेकर कभी नीतीश तो कभी सहभागी दलों पर निशाना साध रहे हैं. नीतीश की सरकार में लंबे समय डिप्टी सीएम रहे बीजेपी सांसद सुशील कुमार मोदी ने ताजा हमला में कहा है कि नीतीश ने सीएम आवास पर बारात तो बुला लिया है लेकिन दूल्हे का पता ही नहीं है. उन्होंने कहा कि जब देश की जनता दूल्हे का नाम जानना चाहती है तब विपक्ष बैंड, बाजा, बारात की बातों में लोगों को उलझाए रखना चाहता है. उन्होंने कहा कि विपक्ष बताए कि वह राहुल गांधी, शरद पवार और ममता बनर्जी में से किसे पीएम बनाने के लिए एकजुट होना चाहता है.
क्या होगा बैठक का एजेंडा ?
जुट रहे 17 विपक्षी दलों को इस बात के लिए तैयार किया जाएगा कि सब सबसे पहले तो एक साथ चलने और लड़ने पर सहमत हों और फिर देश की 450 लोकसभा सीटों पर भाजपा या एनडीए के कैंडिडेट के खिलाफ विपक्ष की तरफ से एक मजबूत कैंडिडेट दें. भाजपा और उस कैंडिडेट के खिलाफ किसी मजबूत पार्टी की तरफ से तीसरा कैंडिडेट देकर मुकाबले को त्रिकोणीय नहीं बनाया जाए. विपक्षी गठबंधन की कोशिश में जुटे नेताओं को लगता है कि आमने-सामने की लड़ाई में बीजेपी को कई सीटों पर हराया जा सकता है जहां तीन बड़े कैंडिडेट होने पर सेकुलर वोट का बंटवारा हो जाता है और बीजेपी जीत जाती है.
राहुल गांधी विपक्षी बैठक से पहले सदाकत आश्रम में करेंगे सभा
कांग्रेस नेता राहुल गांधी और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे शुक्रवार को होने वाली विपक्ष की बैठक में शामिल होने पटना आ रहे हैं. बिहार प्रदेश कांग्रेस इकाई ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और वर्तमान अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे के भव्य स्वागत की तैयारी की है. पार्टी कार्यालय का रंगरोगन और सौंदर्यीकरण किया गया है. दोनों नेता 23 जून को सुबह 10 बजे पटना पहुंचेंगे. एयरपोर्ट से लेकर सदाकत आश्रम तक पार्टी के नेता ओर कार्यकर्ता राहुल गांधी और खड़गे का अभिनंदन और स्वागत करेंगे. इसको लेकर पार्टी के प्रदेशभर के पदाधिकारी पटना आ रहे हैं. राहुल गांधी के आगमन को लेकर सदाकत आश्रम के रास्ते से अतिक्रमण हटाया गया है. मरम्मत कर सड़क को भी चमका दिया गया है.
सीएम नीतीश कुमार के आवास पर आयोजित बैठक में शामिल होने से पहले राहुल और खड़गे प्रदेश कांग्रेस कार्यालय सदाकत आश्रम में सभा करेंगे. इसमें शामिल होने के लिए पूरे बिहार से कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ता जुट रहे हैं. नेताओं का पटना आना दोपहर बाद से शुरू हो जाएगा. राहुल गांधी और मल्लिकार्जुन खड़गे शुक्रवार सुबह विमान से पटना पहुंचेंगे और शाम में वापस दिल्ली लौट जाएंगे.
Previous articleपीएम मोदी इन अमेरिका-आज करेंगे अमेरिकी संसद को संबोधित
Next articleचांद पर तिरंगा-साउथ पोल पर उतरने वाला पहला देश बना भारत