चांद पर तिरंगा-साउथ पोल पर उतरने वाला पहला देश बना भारत

292
Chandrayaan 3: चांद पर तिरंगा लहरा गया है और चांद पर पहुंचकर भारत ने इतिहास रच दिया है. चांद पर सफल लैंडिंग के साथ भारत साउथ पोल पर उतरने वाला पहला देश बन गया है. चंद्रयान-3 ने आज चांद के साउथ पोल पर सफलतापूर्वक लैंडिंग कर ली. चंद्रयान-3 के इस सफल मिशन के साथ ही भारत चांद के साउथ पोल पर यान उतारने वाला पहला देश बना. जबकि चांद के किसी भी हिस्से में यान उतारने वाला भारत चौथा देश बन गया है. भारत से पहले अमेरिका, सोवियत संघ (अभी रूस) और चीन ही चांद पर सॉफ्ट लैंडिंग कर पाए हैं. लैंडर (विक्रम) और रोवर (प्रज्ञान) से युक्त लैंडर मॉड्यूल चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुवीय क्षेत्र पर तय समय से 2 मिनट पहले सफल लैंडिंग हुआ. लैंडिंग के 2 घंटे बाद लैंडर विक्रम से रोवर प्रज्ञान निकलेगा.इसके पहले सारे पैरामीटर चेक करेगा.
चांद पर पहुंचते ही चंद्रयान 3 का पहला संदेश आया- ”India, I reached my destination and you too”

देश में जश्न का माहौल- पीएम मोदी ने कहा – चंदा मामा अब एक टूर के  

इसी के साथ देश जश्न में डूब गया. करोड़ों भारतीयों ने सुबह से यज्ञ और हवन कर रहे थे. इसकी सफलता की दूआ कर रहे थे. दिल्ली, मुंबई, लखनऊ, कोलकता, चेन्नई जैसे देश के तमाम शहरों में जश्न का माहौल है लोग ढोल -नगाड़े के साथ पटाखे फोड़कर इस उपलब्धि पर जश्न मना रहे है. पीएम नरेन्द्र मोदी ने जोहान्सबर्ग से इस अवसर पर संबोधित करते हुए कहा कि,”आज का दिन देश हमेशा याद रखेगा, पहले बच्चे कहा करते थे चंदा मामा बहुत दूर के, लेकिन अब वो दिन भी आएगा बच्चे कहेंगे चंदा मामा बस एक टूर के”. पीएम मोदी ने इसरो चीफ, एस सोमनाथ के साथ फोन पर बात करते हुए उनको और उनके टीम को शुभकामना और बधाई दी. इस उपलब्धि पर इसरो ने कहा कि, हमने सभी लक्ष्य हासिल किए अगले 14 दिन हमारे लिए Exciting है.

चांद के बाद सूरज की बारी

चांद पर पहुंचने के बाद अब सूरज की बारी है. इसके लिए भी ISRO के वैज्ञानिकों ने तैयारी कर ली है. सितंबर में सूरज तक पहुंचने के लिए आदित्य एल-1 की लॉन्चिंग हो सकती है. अंतरिक्ष और आसमान को एक्सप्लोर करने का ये सिलसिला यहीं रुकने वाला नहीं है। इसके बाद NISAR और SPADEX जैसे दो और ताकतवर अंतरिक्ष मिशन लॉन्च होंगे.

Previous articleपटना में 23 जून को विपक्षी एकता का प्रदर्शन
Next articleसरकार का खरीफ सत्र में 521.27 लाख टन चावल खरीद का लक्ष्य