फिर पलटे नीतीश कुमार,बिहार में महागठबंधन की सरकार

360

पटनाः बिहार में नीतीश कुमार ने एकबार फिर पलटी मारते हुए एनडीए से अपना पुराना गठबंधन तोड़ दिया है. भाजपा और जदयू का गठबंधन टूटने के बाद बिहार में महागठबंधन की सरकार बन गई है. जिसका आज दोपहर 2 बजे राजभवन में शपथग्रहण संपन्न हुआ.आज सिर्फ सीएम के रूप मे नीतीश कुमार ने और डिप्टी सीएम के तौर पर तेजस्वी ने शपथग्रहण किया. बाद में कैबिनेट का बिस्तार होगा. बिहार में NDA की टूट के साथ दो दिनों से चली आ रही राजनीतिक अटकलबाजियों पर भी विराम लग गया है

164 विधायकों के समर्थन के साथ बने महागठबंधन की नेता

इसके पहले आज पटना में जदयू और राजद ने मंगलवार को सुबह 11 बजे अपने पार्टी विधायकों और सांसदों की बैठक बुलाई जिसमें नीतीश कुमार के नेतृत्व में महागठबंधन की नई सरकार बनाने का फैसला लिया गया. शाम 4 बजे  सीएम नीतीश कुमार ने राज्यपाल फागू चौहान को अपना इस्तीफा सौंप दिया. इस्तीफे के बाद नीतीश कुमार राबड़ी देवी के घर पहुंचे. यहां से नीतीश के साथ तेजस्वी यादव और कांग्रेस के भक्त चरण दास मुख्यमंत्री आवास पहुंचे. यहां हुई बैठक में नीतीश कुमार को महागठबंधन का नेता चुना गया.

8वीं बार लेंगे सीएम पद की शपथ

अब नीतीश कुमार आठवीं बार राज्य के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे. लेकिन, उनकी इस सरकार का गणित और सहयोगी सब बदले हुए होंगे. महज 45 विधायकों वाली उनकी पार्टी सत्ता में बनी रहेगी. नीतीश के साथ तेजस्वी यादव उप मुख्यमंत्री बन सकते हैं. नीतीश कुमार की नई सरकार को 164 विधायकों का समर्थन होगा. जो नीतीश कुमार की एनडीए सरकार 127 विधायकों के समर्थन से काफी ज्यादा है. नई सरकार में राजद के 79 विधायक, 19 विधायक कांग्रेस के, 16 विधायक वाम दलों के, 4 विधायक जीतनराम मांझी की हम के शामिल हैं. इसके साथ ही एक निर्दलीय के समर्थन का भी नीतीश कुमार ने दावा किया है.

नई सरकार में कितने दल ?

बिहार में नई सरकार में राजद, जदयू, कांग्रेस, हम के साथ 7 दलों का समर्थन है. विधानसभा में सबसे बड़ी पार्टी राजद के साथ कांग्रेस, वाम दल और जीतन राम मांझी की पार्टी हम भी इस गठबंधन का हिस्सा होंगे. महागठबंधन में कांग्रेस को 4 मंत्री पद मिलने की संभावना है. खबर के मुताबिक, सीएम नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के तुरंत बाद कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी दोनों से बात की तथा उन्होंने नई सरकार के गठन में समर्थन देने के लिए कांग्रेस नेतृत्व को धन्यवाद दिया. सूत्रों के अनुसार,4 मंत्री पदों के अलावा कांग्रेस को राज्य विधानसभा के अध्यक्ष का पद भी दिया जा सकता है.

बीजेपी का नीतीश के खिलाफ महाधरना आज

भाजपा ने मंगलवार को अपने पुराने सहयोगी बिहार सीएम नीतीश कुमार के कदम पर नाराजगी जताते हुए उन पर विश्वासघात करने का आरोप लगाया है. पार्टी राज्य मुख्यालय में सुबह 10 बजे कोर कमेटी की बैठक के बाद विश्वासघात के खिलाफ बड़े पैमाने पर महाधरना का आयोजन कर रही है. इसके बाद ब्लॉक स्तर पर आंदोलन किया जाएगा.

Previous article40 दिन बाद महाराष्ट्र कैबिनेट का विस्तार, विभागों का बंटवारा आज
Next articleपराली जलाने से मुक्ति-पीएम मोदी आज 2जी एथेनॉल प्लांट का करेंगे शुभारंभ