पोलैंड पर मिसाइल वार, क्या होकर रहेगा थर्ड वर्ल्ड वार ?

351

रूस-यूक्रेन युद्ध में एक बार फिर तनाव बढ़ गया है और थर्ड वर्ल्ड वार के मुहाने पर आ गया है. दरअसल, रूस द्वारा दागी गई मिसाइलों में से दो मिसाइलें यूक्रेन सीमा के पास नाटो के सदस्य देश पोलैंड के क्षेत्र में जा गिरीं. इस घटना में दो लोगों की मौत हो गई और तीन के घायल होने की खबर है. पुलिस और सेना घटना स्थल पर काम कर रही है. पोलैंड के प्रधानमंत्री माटुस्ज मोराविकी ने देश के क्षेत्र में मिसाइलों के गिरने की खबरों के बाद मंत्रिपरिषद की सुरक्षा परिषद समिति की बैठक बुलाई है. समाचार के मुताबिक, यूक्रेन की सीमा पर लबलिन वोइवोडीशिप में प्रेजवोडो के आबादी वाले क्षेत्र में दो रॉकेट गिरे.

हमले के बाद आपात बैठकों का दौऱ शुरू- रूस ने किया खंडन

वहीं इस वाकये के बाद यूरोप के अधिकांश देशों में बैठकों का दौर शुरू हो गया. पोलैंड और हमले के बाद आपात बैठक बुलाई गई है. पोलैंड के प्रधानमंत्री माटुस्ज मोराविकी ने देश के क्षेत्र में मिसाइलों के गिरने की खबरों के बाद मंत्रिपरिषद की सुरक्षा परिषद समिति की बैठक बुलाई. सरकार के प्रवक्ता पिओतर मुलर ने ट्वीट कर बताया कि प्रधानमंत्री मोराविकी ने तत्काल राष्ट्रीय सुरक्षा और रक्षा मामलों के लिए मंत्रिपरिषद की समिति को बुलाई है. वहीं, मॉस्को ने पोलैंड पर रूसी मिसाइलों के हमले की रिपोर्ट को ‘उकसाने’ की घटना बताया. रूस के रक्षा मंत्रालय ने उन रिपोर्टों का खंडन किया है कि रूसी मिसाइलों ने पोलिश क्षेत्र में हमला किया. इस रिपोर्ट के बारे में बताते हुए इसे “युद्ध की बढ़ती स्थिति के बीच जानबूझकर एक उकसावे” के रूप में वर्णित किया. रूसी रक्षा मंत्रालय ने कहा कि यूक्रेन-पोलैंड सीमा को लक्ष्य बनाकर रूसी मिसाइलों से कोई हमला नहीं किया गया है. उधर, पोलैंड में मिसाइलों के गिरने की खबरों पर हंगरी के प्रधानमंत्री विक्टर ओरबना ने रक्षा परिषद की बैठक बुलाई.

G-20 की बैठक के बीच, बढ़ा थर्ड वर्ल्ड वार का खतरा

इंडोनेशिया के बाली में एक तरफ जहां G-20 की बैठक विश्व शांति की बात चल रही है तो दूसरी तरफ अब पोलैंड पर हुए हमले से नाटो देश तिलमिला गए हैं. जिससे थर्ड वर्ल्ड वार का खतरा बढ़ गया है. पोलैंड उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन (NATO) सैन्य गठबंधन का सदस्य है. नाटो संधि के अनुच्छेद 5 में कहा गया है कि यदि किसी सदस्य देश के खिलाफ सशस्त्र हमला होता है, तो इसे सभी सदस्यों के खिलाफ हमला माना जाएगा. रूस ने खेरसान से वापसी के बाद मंगलवार को यूक्रेन के शहरों पर मिसाइलों की बारिश की. मिसाइल हमलों के बीच लगभग एक दर्जन प्रमुख शहरों में हवाई हमले के सायरन बजे और विस्फोट हुए.

पोलैंड में रूसी मिसाइलों के गिरने पर पेंटागन सतर्क

पोलैंड के क्षेत्र में रूसी मिसाइलों के गिरने के बारे में रिपोर्ट सामने आने के बाद अमेरिका ने किसी भी निष्कर्ष पर पहुंचने से पहले स्थिति के तथ्यों को इकट्ठा करने की आवश्यकता पर जोर दिया. पेंटागन के प्रवक्ता ब्रिगेडियर जनरल पैट्रिक राइडर ने एक प्रेस ब्रीफिंग के दौरान कहा कि हम इस रिपोर्ट से अवगत हैं, लेकिन रिपोर्ट की पुष्टि करने के लिए इस समय कोई जानकारी नहीं है। हमने इस मामले को गंभीरता से लिया है और उन पर गौर कर रहे हैं। जैसे ही हमारे पास इसकी जानकारी आएगी, हम आपको इस बारे में बताएंगे। उन्होंने कहा कि हम इस मामले में तथ्यों को जुटा रहे हैं. मुझे लगता है कि यह हम सभी को करना चाहिए कि हम अनुमान लगाने या किसी निष्कर्ष पर पहुंचने से पहले तथ्यों को इकट्ठा करें.

Previous articleHate Story-प्रेमिका के 35 टुकड़े, उठी फांसी की मांग
Next articleNASA के मून मिशन ‘आर्टेमिस-1 की लॉन्चिंग की तैयारी