China-Taiwan Tension- Taiwan Strait में चीन-ताइवान का मिलिट्री ड्रील जारी

218

चीन द्वारा ताइवान स्ट्रेट में चीनी विमानों और युद्धपोतों ने अपनी समुद्री सीमा के बाहर जाकर सैन्य अभ्यास जारी रखा है. वहीं ताइवान ने भी चीन के जवाब में युद्धाभ्यास शुरू कर दिया है. इस बीच, ताइवानी विदेश मंत्री जोसेफ वू ने कहा कि ताइवान स्ट्रेट के रास्ते चीन पूर्वी और दक्षिणी चीन सागर पर कब्जा करना चाहता है.ताइवान क्षेत्र के आसपास चीनी अभ्यास के जवाब में ताइवान का युद्धाभ्यास शुरू करना एक बड़ी घटना है जिसे चीन को चुनौती के रूप में देखा जा रहा है. ताइवान को अमेरिका का सीधा समर्थन है, चीन पिछले सप्ताह अमेरिकी प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी की ताइवान यात्रा के जवाब में सैन्य अभ्यास शुरू किया था.

ताइवान होवित्जर तोपों की तैनाती करेगा

ताइवान ने भी चीन के अभ्यास का जवाब देते हुए सोमवार देर रात अपना सैन्य अभ्यास शुरू किया। इस दौरान उसकी ओर से तोपों से गोले दागे गए और जमीनी सैन्य अभ्यास किया गया। ताइवानी सैन्य अभ्यास की पुष्टि आठवीं आर्मी कॉर्प्स के प्रवक्ता ए लू वी जे ने की है. मंगलवार को जब सैन्य अभ्यास के दौरान तोप से आखिरी गोला दागा गया तो उस ताइवान के सैनिक चिल्लाए ‘हमारा मिशन पूरा हुआ.’ अब बृहस्पतिवार को भी ताइवान सैन्याभ्यास करेगा, जिसमें सैकड़ों सैनिकों और 40 होवित्जर तोपों की तैनाती की जाएगी. हालांकि लू का कहना है कि ताइवान का यह सैन्य अभ्यास पहले से ही तय था.

ताइवान पर आक्रमण के फिराक में चीन

ताइवान के विदेश मंत्री जोसेफ वू ने कहा कि चीन का असली इरादा ताइवान पर आक्रमण करना है और यह युद्धाभ्यास उसी की तैयारी है. इस अभ्यास के जरिये चीन चाहता है कि अन्य देश ताइवान की मदद के लिए आगे न आएं. यह अभ्यास ताइवान से परे चीन की भू-राजनीतिक महत्वाकांक्षाओं को दर्शाता है. ताइवान को अपना क्षेत्र बताते हुए चीन लंबे समय से कहता आया है कि यदि जरूरी हुआ तो वह द्वीप को बलपूर्वक अपने में शामिल कर लेगा.

 एशियाप्रशांत क्षेत्र में बदलाव चाहता है चीन-Taiwanese विदेशमंत्री

लेकिन ताइवानी विदेश मंत्री ने कहा कि चीन उनकी यात्रा को एक बहाने के तौर पर इस्तेमाल कर रहा है और अभ्यास के नाम पर वह एशिया-प्रशांत क्षेत्र की यथास्थिति में बदलाव करना चाहता है. जोसेफ वू ने कहा कि चीन दूसरे देशों को ताइवान की मदद से रोकना चाहता है. इसलिए पेलोसी के बहाने चीन ने ताइवान की ओर से कई खाद्य सामग्रियों के आयात पर प्रतिबंध लगा दिए.

ताइवान को अलग हुआ प्रांत मानता है चीन

ताइवान को चीन एक अलग हुए प्रांत के रूप में देखता है जिस पर जरूरत पड़ने हुई तो वह सैन्य नियंत्रण का सपना देखता है हालांकि ताइवान एक स्व-नियंत्रित द्वीप है जो खुद को चीन से अलग समझता है. ताइवान के आसपास नई गतिविधियों की शुरुआत तब हुई, जब चीन के समुद्र तटीय प्राधिकरण ने घोषणा की कि इन अभ्यासों को अन्य स्थानों पर भी किया जाएगा.

Previous articleपराली जलाने से मुक्ति-पीएम मोदी आज 2जी एथेनॉल प्लांट का करेंगे शुभारंभ
Next articleमशहूर लेखक सलमान रुश्दी पर जानलेवा हमला