यूपी की पहली लेडी डॉन,जिसपर सबसे बड़ा इनाम-लुकआउट नोटिस जारी

202

 

  • यूपी की लेडी डॉन अफ्शा अंसारी के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी, विदेश भागने की है आशंका
  • अनुसूचित जाति के लोगों की जमीन अपने नाम कराने के मामले में पुलिस को तलाश
  • अफ्शा  के पति मुख्तार अंसारी, बेटा अब्बास अंसारी और बहू निकहत पहले से जेल में बंद

Lucknow/Gazipur: उतर प्रदेश में बाहुबलियों पर शामत आई हुई है. एक तरफ बाहुबली अतीक अहमद की पत्नी शाइस्‍ता परवीन अबतक फरार है तो दूसरी तरफ मुख्तार अंसारी की पत्नी अफ्शा अंसारी के खिलाफ यूपी पुलिस ने लुकआउट नोटिस जारी कर दिया है. फर्म बनाकर गलत तरीके से अनुसूचित जाति के लोगों की जमीन अपने नाम कराने के मामले में पुलिस को अफ्शा अंसारी की तलाश है.

मुख्तार अंसारी की पत्नी अफ्शा अंसारी के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी हुआ है. पुलिस को अफ्शा अंसारी के विदेश भागने का शक है इसलिए यह लुकआउट नोटिस जारी किया गया है. इस बाबत जानकारी  धनंजय मिश्रा सीओ सिटी मऊ ने बताया कि, विदेश भागने की आशंका को देखते यह नोटिस जारी किया गया है.

अंतरराष्ट्रीय सीमाओं पर नोटिस से सबंधित सूचना

अंतरराष्ट्रीय सीमाओं पर नोटिस से सबंधित सूचना अंतरराष्ट्रीय सीमाओं पर नोटिस से सबंधित सूचना केंद्रीय गृह मंत्रालय के ब्यूरो ऑफ इमिग्रेशन ने नेपाल, पाकिस्तान, बांग्लादेश और पंजाब समेत सभी अंतरराष्ट्रीय सीमाओं पर नोटिस से सबंधित सूचना पुलिस को जारी की है.

अफ्शा की तलाश में सर्च ऑपरेशन  में तेजी, इनाम की राशि में भी बढ़ोतरी

मुख्‍तार की पत्‍नी अफ्शा अंसारी की तलाश में सर्च ऑपरेशन तेजी से चलाया जा रहा है. अफ्शा करीब साल भर से फरार चल रही हैं. यूपी सरकार ने एक बार फिर उन पर इनामी राशि बढ़ा दी है. अब अफशां के बारे में सूचना देने वाले को 50 की जगह 75 हजार का इनाम दिया जाएगा. दो दिन पहले ही अफशां पर इनाम 25 हजार से बढ़ाकर 50 हजार किया गया था. दूसरी ओर, अतीक अहमद की फरार बेगम शाइस्‍ता परवीन पर 50 हजार का इनाम है. ऐसे में अफशां अंसारी यूपी की ऐसी पहली लेडी डॉन बन गई हैं, जिन पर सबसे ज्‍यादा इनाम है.

क्या है पूरा मामला ?

मऊ जिला के दक्षिण टोला के रैनि गांव के पास विकास कंस्‍ट्रक्‍शन नाम की फर्म बनाकर जमीन ली गई और उस पर गोदाम बनाया गया. इस गोदाम को फर्म ने FCI  को किराये पर दिया गया. यह फर्म पांच लोगों के नाम पर रजिस्‍टर्ड थी जिसमें मुख्‍तार अंसारी, अफ्शा अंसारी, दोनों सालें अनवर सहजाद और आतिफ रजा का नाम शामिल है. जांच में पता चला कि, इस फर्म ने अनुसूचित जाति के लोगों को पट्टे पर दी गई जमीन को गलत तरीके से अपने नाम कर लिया. साथ ही कुछ और लोगों की जमीन भी गलत तरीके से ले ली. इस मामले में अफशां के अलावा सभी सभी आरोपी कोर्ट में पेश हो चुके है लेकिन अफ्शा अबतक फरार है.

Previous articleगुजरात चुनाव-पहले चरण में 89 सीटों पर मतदान आज
Next articleपकड़ा गया भगोड़ा अमृतपाल