सरकार का खरीफ सत्र में 521.27 लाख टन चावल खरीद का लक्ष्य

139

सरकार ने चालू खरीफ सत्र में 521.27 लाख टन चावल खरीदने का लक्ष्य रखा है. सरकार ने पिछले साल की खरीफ फसल मौसम से 496 लाख टन चावल खरीदा है. धान खरीफ और रबी दोनों मौसमों सर्दी और गर्मी में उगाया जाता है. खाद्य सचिव संजीव चोपड़ा ने अक्टूबर-सितंबर तक चलने वाले आगामी खरीफ विपणन सत्र (केएमएस) 2023-24 में खरीफ फसल की खरीद व्यवस्था पर चर्चा करने के लिए 21 अगस्त को राज्य खाद्य सचिवों और एफसीआई की एक बैठक की अध्यक्षता की.

521.27 लाख टन चावल खरीदने का अनुमान

खाद्य मंत्रालय ने एक सरकारी बयान में कहा, ‘‘खरीफ विपणन सत्र 2023-24 (खरीफ फसल) के दौरान खरीद के लिए 521.27 लाख टन चावल खरीदने का अनुमान रखा गया है, जबकि पिछले वर्ष 518 लाख टन के खरीद अनुमान रखा गया था। इसके मुकाबले खरीफ विपणन सत्र 2022-23 के दौरान 496 लाख टन चावल की खरीद की गई थी.

किस राज्य से कितना खरीद होगा

खरीफ विपणन सत्र 2023-24 के दौरान, पंजाब में चावल की खरीद 122 लाख टन, छत्तीसगढ़ (61 लाख टन), तेलंगाना (50 लाख टन), ओडिशा (44.28 लाख टन), उत्तर प्रदेश (44 लाख टन), हरियाणा (40 लाख टन), मध्य प्रदेश (34 लाख टन), बिहार (30 लाख टन), आंध्र प्रदेश (25 लाख टन), पश्चिम बंगाल (24 लाख टन) और तमिलनाडु (15 लाख टन) होने का अनुमान है.

खरीफ विपणन सत्र 2023-24 के दौरान राज्यों द्वारा खरीद के लिए 33.09 लाख टन मोटे अनाज (श्री अन्न) की मात्रा का अनुमान लगाया गया है, जबकि खरीफ विपणन सत्र 2022-23 (खरीफ और रबी) के दौरान 7.37 लाख टन की वास्तविक खरीद की गई थी.

इस खरीफ विपणन सत्र 2023-24 से शुरू होकर तीन साल तक एमएसपी पर राज्यों द्वारा कोदो, सावा, चेना समेत छह लघु मोटे अनाज खरीदने की भी शुरुआत की गई है.