जगदीप धनखड़ होंगे देश के अगले उपराष्ट्रपति, 11अगस्त को शपथग्रहण

207
Jagdeep Dhankhad

नई दिल्लीः पश्चिम बंगाल के पूर्व गवर्नर और एनडीए के उम्मीदवार जगदीप धनखड़ देश के अगले उपराष्ट्रपति होंगे, 11 अगस्त को धनखड़ पद और गोपनीयता की शपथ लेंगे। उन्होंने अपनी प्रतिद्वंद्वी मार्गरेट अल्वा को चुनाव में हरा दिया है। जीत के बाद पीएम मोदी के बाद केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने जाकर नव निर्वाचित राष्ट्रपति से मुलाकात कर जीत की बधाई दी। पीएम मोदी ने कहा कि, भारत के लिए एक किसान पुत्र का उपराष्ट्रपति होना गर्व का क्षण है। पीएम मोदी ने संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी के आवास पर निर्वाचित उपराष्ट्रपति से मुलाकात की।

किसको मिले कितने वोट

शनिवार की सुबह 10 बजे से Rajya Sabha और Lok Sabha के सदस्यों ने उपराष्ट्रपति के लिए वोट डालना शुरू किया। TMC ने पहले ही एलान कर दिया था कि उनके सांसद वोट नहीं डालेंगे। इस तरह से कुल 725 सांसदों ने वोट डाला,15 वोट रद्द कर दिए गए। कुल 710 वैध वोटों में 528 वोट जगदीप धनखड़ को मिले, वहीं विपक्ष की उम्मीदवार मार्गरेट अल्वा को केवल 182 वोट मिले।

क्या जाट और किसान वोटर को साधने में कामयाब हो पाएगी बीजेपी?

जगदीप धनखड़ की जीत बीजेपी के लिए 2024 की चुनावी बिसात को लेकर अहम माना जा रहा है। धनखड़ की इस जीत के कई मायने हैं। बीजेपी ने जिस उद्देश्य के साथ धनखड़ को उम्मीदवार बनाया था, अब वो काफी हद तक सफल हो सकता है। धनखड़ काफी जुझारू हैं और जाट समुदाय में उनकी अच्छी पकड़ मानी जाती है। पिछले 2 वर्ष से बीजेपी को सबसे ज्यादा मुश्किल किसान और जाट समुदाय के लोगों से ही हुई।

धनखड़ राजस्थान के जाट परिवार से आते हैं। उनका पारिवारिक पेशा कृषि रहा है मतलब एक तरह से धनखड़ किसान परिवार से आते हैं पिछले दिनों कृषि बिल के खिलाफ खड़े हुए किसान आंदोलन के चलते, दूसरी तरफ राज्यपाल सत्यपाल मलिक, (जो जाट समुदाय से आते हैं) केंद्र सरकार और भाजपा के खिलाफ लगातार मुखर होने से बीजेपी एक तरह से बैकफूट पर थी। ऐसे में अब बीजेपी ने एक तीर से कई निशाना साधने की कोशिश की है। अब देखना यह है कि, जगदीप धनखड़ की जीत से बीजेपी जाट और किसान वोटरों को साधने में कितना कामयाब हो पाती है।

Next article‘Azadi ka Amrit Mahotsava’- 75 Years Independence,PM मोदी की अध्यक्षता में हुई राष्ट्रीय समिति की बैठक