सोमालिया आतंकी हमले में 20 की मौत, 26/11 जैसा हमला

322

Mogadishu: सोमालिया की राजधानी मोगादिशु में आतंकी समूह अल-शबाब के बंदूकधारियों ने होटल हयात पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसाते हुए 20 लोगों को मौत के घाट उतार दिया. इस हमले में 40 से अधिक लोग घायल हैं. सुरक्षा सूत्रों के हवाले से खबर है कि, अल-शबाब के लड़ाकों ने मोगादिशु के हयात होटल पर कब्जा कर गोलियों की बौछार कर दी जिसमें मरनेवालों की तदाद बढ़कर 20 हो गई. अल-शबाब के आतंकियों का मोगादिसु के होटल हयात पर हमला मुंबई के 26/11 जैसा बड़ा आतंकी हमला है.

खुफिया प्रमुख समेत दो सुरक्षा अधिकारी घायल

मीडिया ब्रीफिंग में, सोमाली पुलिस के प्रवक्ता अब्दीफतह अदन हसन ने कहा कि, आत्मघाती हमलावर शुरू में होटल में घुसे और फायरिंग शुरू कर दी, जिसके परिणामस्वरूप सुरक्षा बलों और जिहादी समूह के बंदूकधारियों के बीच भीषण गोलीबारी हुई. इस घटना में 20 लोगों की मौत हो गई. इस ऑपरेशन में खुफिया प्रमुख समेत दो सुरक्षा अधिकारी भी घायल हैं.

‘खौफ’ का दूसरा नाम बन चुका है अल-शबाब?

कहा जाता है कि, खौफ का दूसरा नाम अल-शबाब है पर ये अल-शबाब है कौन? दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में आतंकवादी संगठन अल-कायदा के जो धड़े हैं, अल-शबाब उन्हीं में से एक है. यह संगठन सोमालिया सरकार के खिलाफ लंबे समय से जंग लड़ रहा है. मुख्य तौर पर सोमालिया स्थित इस संगठन का पूरा नाम हरकत अल-शबाब अल मुजाहिदीन है और केन्या से लगती देश की दक्षिणी सीमा पर इसका जबर्दस्त वर्चस्व है. अल-शबाब का एकमात्र मकसद सोमालिया सरकार को जड़ से उखाड़ना है. अल-शबाब सऊदी अरब के वहाबी इस्लाम को मानता है, जो कि इस्लाम का सबसे कट्टर स्वरूप है.

अल-शबाब लगातार करता रहा है सोमालिया पर हमला

सोमालिया सरकार के खिलाफ लंबे समय से जंग लड़ रहे इस आतंकी संगठन का ये कोई पहला हमला नहीं है. अल शबाब ने मोगादिशू शहर में इससे पहले भी कई भयानक विस्फोटों को अंजाम दिया है. आतंकी संगठन अल-शबाब की स्थापना 2006 में हुई थी.  उस समय मोगादिशू शहर यूनियन ऑफ इस्लामिक कोर्ट्स के कब्जे में था, जो कि शरिया अदालतों का एक संगठन था. इसका मुखिया शरीफ शेख अहमद था.  2006 में इथियोपिया की सेना ने इस संगठन को हरा दिया और अल-शबाब का जन्म हुआ.

भारत ने किया हमले की कड़ी निंदा

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने ट्वीट करते हुए हमले की निंदा करते हे लिखा है कि, “भारत मोगादिशू में हयात होटल पर हमले की कड़ी निंदा करता है और आतंकवाद के इस कायराना कृत्य के पीड़ितों और परिवारों के प्रति हार्दिक संवेदना व्यक्त करता है. भारत सरकार और सोमालिया के लोगों के साथ आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में खड़ा है.