UPSC में बेटियों का जलवा-टॉप 4 में लड़कियां इशिता बनी टॉपर

241
संघ लोक सेवा आयोग ने सिविल सेवा परीक्षा -2022में बेटियों ने एक बार फिर परचम लहरा दिया है. देश के इस प्रतिष्ठित परीक्षा में टॉप 4 में लड़कियां ही रहीं हैं. इसमें बिहार की इशिता किशोर टॉपर बनी जबकि दूसरे नंबर पर गरिमा लोहिया रहीं. तीसरे स्थान पर तेलंगाना की उमा हरति एन और चौथे पर यूपी की स्मृति मिश्रा रहीं है. पांचवे स्थान पर असम के मयूर हजारिका रहे जो पेशे से एक डॉक्टर हैं जिन्होंने लड़कों में प्रथम स्थान हासिल किया है.
UPSC Top-10 Candidates
  1. इशिता किशोर
  2. गरिमा लोहिया
  3. उमा हरति एन
  4. स्मृति मिश्रा
  5. मयूर हजारिका
  6. गहना नव्या जेम्स
  7. वसीम अहमद
  8. अनिरुद्ध यादव
  9. कनिका गोयल
  10. राहुल श्रीवास्तव
इनके मार्क्स रिजल्ट की घोषणा के लगभग 15 दिन बाद जारी किए जाएंगे.फाइनल रिजल्‍ट में कुल 933 कैंडिडेट्स का सिलेक्शन हुआ है. इनमें से 345 कैंडिडेट्स सामान्य, 99 EWS, 263 OBC, 154 SC और 72 ST कैटेगरी से हैं. 178 कैंडिडेट्स की रिजर्व लिस्‍ट भी तैयार की गई है. 18 मई 2023 को सिविल सेवा (मेन)  में सफल उम्मीदवारों का इंटरव्यू हुआ था. UPSC द्वारा घोषित सिविल सेवा मेन-2022 रिजल्ट के अनुसार, सिविल सेवा प्रारंभिक और मुख्य परीक्षा में सफल होने वाले लगभग 2,529 उम्मीदवारों को इंटरव्यू के लिए बुलाया गया था.
टॉपर इशिता किशोर- Bihar
UPSC टॉपर इशिता किशोर मूल रूप से बिहार की बेटी हैं. ग्रेटर नोएडा के जलवायु विहार में यह परिवार रहता है. पिता अब इस दुनिया में नहीं हैं. पिता एयरफोर्स में विंग कमांडर थे इसलिए एयरफोर्स बाल भारती स्कूल से पूरी स्कूली शिक्षा हासिल की है. इशिता ने दिल्ली यूनिवर्सिटी के श्रीराम कॉलेज ऑफ कामर्स से इकोनॉमिक्स ऑनर्स से ग्रेजुएशन पूरा किया. इशिता की मां ज्योति किशोर ने बताया, ‘मैं बहुत खुश हूं. बेटी इशिता की बहुत अच्छी तैयारी रही है और वो हमेशा इसके प्रति फोकस्ड भी रही है. उन्होंने कहा कि पूरा परिवार हमेशा इशिता के लिए सपोर्टिव रहा है. सारे लोग बहुत सपोर्ट करते हैं. एक मां के रूप में जो करना चाहिए वो मैंने भी किया.
गरिमा लोहिया – Bihar
बिहार के बक्सर की रहने वाली गरिमा लोहिया ने सिविल सर्विसेस एग्जाम में दूसरी रैंक हासिल की है. गरिमा ने परीक्षा की तैयारी घर पर रहकर ही की थी वो भी बिना किसी कोचिंग के. गरिमा लोहिया ने बक्सर के वूड स्टॉक स्कूल से पढ़ाई की है तथा दिल्ली विश्विद्यालय में कॉमर्स में ग्रेजुएशन किया. इसी दौरान यूपीएससी की तैयारी शुरू की और उन्हें सफलता मिली. उनके परिवार में मां, भाई और एक बड़ी बहन है उन्होंने बताया, ‘मैंने सेल्फ स्टडी पर ही ज्यादा जोर दिया। सामान्य ज्ञान के लिए सोशल साइट्स की मदद ली. गरिमा के पिता नारायण प्रसाद लोहिया का निधन 2015 में हो गया. खास बातचीत में गरिमा ने बताया कि, उन्होंने बक्सर में रह कर ही तैयारी की. इतनी अच्छी रैंक आएगी, इसकी उम्मीद नहीं थी. कोरोना के दौरान कोचिंग नहीं कर सकती थी इसलिए ऑनलाइन कोर्सेस से ही तैयारी की उन्होंने अपनी सफलता का श्रेय अपने खासतौर पर अपनी मां को दिया.
उमा हरति एन- Telangana
यूपीएससी 2022 की परीक्षा में उमा हरति एन ने तीसरी रैंक हासिल की है. उमा ने अपनी सफलता का पूरा श्रेय अपने आईपीएस पिता को दिया. हरथि के पिता, एन वेंकटेश्वरलू वर्तमान में तेलंगाना के नारायणपेट जिले के पुलिस अधीक्षक (SP) के रूप में सेवारत हैं. उमा हरथि ने आईआईटी-हैदराबाद से सिविल इंजीनियरिंग में बीटेक की पढ़ाई की है. उन्होंने अपने ऑप्शनल सब्जेक्ट के रूप में नरविज्ञान (Andrology) के साथ परीक्षा पास की है. उन्होंने अपने पांचवें प्रयास में परीक्षा पास की है. उन्होंने कहा है, ” मेरी सफलता में 100 फीसदी मेरे पिता का हाथ है.”
स्मृति मिश्रा- Uttar Pradesh
उत्तर प्रदेश के बरेली शहर में सेकेंड सर्किल में तैनात सीओ राजकुमार मिश्रा की बेटी स्मृति मिश्रा ने चौथा स्थान हासिल किया. फिलहाल स्मृति नोएडा में अपने भाई के साथ रहतीं है. स्मृति मिश्रा ने बताया कि उन्होंने यूपीएससी के चौथे इंटरव्यू में उनके चौथी रैंक आई है. वह दिल्ली से लॉ की पढ़ाई कर रही हैं.
मयूर हजारिका-Assam
सिविल सेवा परीक्षा-2022 में मयूर हजारिका ने पुरूषों में प्रथम स्थान हासिल किया है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार मयूर हजारिका पेशे से डॉक्टर हैं और राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, असम से जुड़े हुए हैं. उन्होंने असम के गुवाहाटी में गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल से एमबीबीएस की पढ़ाई पूरी की. उन्होंने सिविल सेवा परीक्षा की प्रीलिम्स परीक्षा क्वालिफाई करने के बाद मेडिकल प्रैक्टिस छोड़ दी थी. रिजल्ट समाने आने के बाद मयूर ने कहा कि, मुझे इतने अच्छे नतीजे की उम्मीद नहीं थी, मैं इससे संतुष्ट हूं. मेरी पहली प्राथमिकता भारतीय विदेश सेवा(इंडियन फॉरेन सर्विस) है. बाकी देखते हैं कैसे अलॉटमेंट होता है.